प्रभु यीशु के द्वारा किए गए चमत्कार | Jesus Christ Miracles in Hindi

प्रभु यीशु के द्वारा किए गए चमत्कार  | Jesus Christ Miracles in Hindi

jesus miracle, yeshu ke chamatkar, bible ke vachan, yeshu ka vachan
प्रभु यीशु के द्वारा किए गए चमत्कार 

प्रभु यीशु ने लकवे से पीड़ित को ठीक किया 

मत्ती अध्याय 9 फिर यीशु एक नाव पर जाकर चढ़ा और झील के पार अपने नगर आ गया लोग लकवे के एक रोगी को खाट पर लेटा कर यीशु के पास लाए यीशु ने जब उन लोगों के विश्वास को देखा तब उसने उस लकवे के रोगी को कहा तुम्हारे पापों की क्षमा हो गई है। तभी कुछ यहूदी धर्म शास्त्री आपस में कहने लगे की यह आदमी अपने शब्दों से परमेश्वर का अपमान करता है। लेकिन यीशु जानता था कि वह क्या सोचते हैं। यीशु ने उनसे कहा तुम अपने मन में बुरे विचार क्यों लाते हो। पृथ्वी पर मनुष्य को पापों से मुक्त करने का अधिकार परमेश्वर के पुत्र को है। यीशु ने लकवे से पीड़ित रोगी को कहा " खड़ा हुआ अपना बिस्तर उठा और अपने घर चला जा" और वह लकड़ी से पीड़ित रोगी खड़ा होकर अपना बिस्तर उठा कर अपने घर चला गया। उस जगह खड़ी सभी भिड़ने जब यह देखा तब सभी लोग अचंभित हो गए। और सभी परमेश्वर की स्तुति करने लगे जिसने मनुष्य को ऐसी शक्ति दी।

मत्ती का जीवन परिवर्तन 

यीशु जब उस जगह से जा रहा था तभी उसने चुंगी की चौकी पर बैठे हुए एक आदमी को देखा जिसका नाम मत्ती था। यीशु ने उससे कहा "मेरे पीछे आ" तभी मत्ती खड़ा हुआ उसके पीछे चला गया। यीशु मत्ती के घर भोजन कर रहा था तभी यीशु के शिष्यों के साथ बहुत से चुंगी वसूल करने वाले और बहुत सारे लोग थे। तभी परूशी लोग येशू के शिष्यो से पुछने लगे " तुम्हारा गुरु चुंगी वसूल करने वालों के साथ और पापी मनुष्य के साथ खाना क्यों खा रहा है।" यह सुनकर यीशु उनसे बोला "स्वस्थ लोगों को नहीं रोगियों को चिकित्सक की होती है।" इसलिए तुम लोग जाओ और समझो कि शस्त्र के इस वचन का अर्थ क्या क्या है। मैं बलिदान नहीं चाहता मैं दया चाहता हूं। मैं धर्मीयों को नहीं बल्कि पापियों को बुलाने आया हूं। फिर बपतिस्मा देने वाले योहांना के शिष्य यीशु के पास गए और यह यीशु से पूछा "हम और फरीसी बार बार उपवास क्यों करते हैं और तुम्हारे शिष्य क्यों नहीं करते" फिर यीशु ने उनसे कहा कि "क्या दूल्हे के साथी जब तक दूल्हा उनके साथ है तब शोक मना सकते हैं लेकिन वह दिन जल्दी आएंगे जब दूल्हा उनसे छीन लिया जाएगा फिर उस समय वह दुखी होंगे और उपवास करेंगे बिना सिकुड़न पुराने कपड़े का पैबंद नए कपड़े में कोई नहीं लगाता क्योंकि वह पैबंद कपड़े को अधिक फाड़ देगा और कपड़े की खींच और बढ़ जाएगी नया द्राक्ष रस पुरानी मसको में नहीं भरा जाता नहीं तो मसकें फट जाती है। और द्राक्षरस बहकर बिखर जाता है और मसके भी नष्ट हो जाते हैं इसलिए नया द्राक्षरस नई मसकों में भरा जाता है। जिससे राक्षस और मसके दोनों सुरक्षित रहते हैं।" यीशू यह सब बातें जब उन लोगों को बता रहा था तब यहूदी आराधनालय का एक मुखिया यीशु के पास आया यीशु के सामने झुक कर विनती करने लगा "अभी-अभी मेरी बेटी मर गई है। यदि तुम आकर उसके सर पर अपना हाथ रखो तो वह फिर से जी उठेगी"

12 साल से रक्त बहने से पीड़ित स्त्री को मुक्ति 

प्रभु यीशु अपने शिष्यों के साथ उस व्यक्ति के साथ उसके घर चला जा रहा था तभी एक 12 साल से रक्त बहने से पीड़ित थी। वह पीछे से यीशु के करीब आए और उसने यीशु के कपड़ों को छू लिया वह सोच रही थी कि यदि में यीशु का वस्त्र छू लूंगी तो मैं ठीक हो जाऊंगी तभी जिसने उसे मुड़ कर देखा और उससे कहा कि बेटी तेरे विश्वास ने तुझे चंगा कर दिया है और वह स्त्री उसी क्षण ठीक हो गई।

मरी हुई लड़की को यीशु जीवित किया 

यीशु जब यहूदी धर्म सभा के मुखिया के घर पहुंचा तब यीशु ने देखा कि वहां पर सभी लोग उस लड़की की मृत्यु का शोक मना रहे थे तभी यीशु ने उनसे कहा कि "सब लोग यहां से बाहर जाओ यह लड़की मरी नहीं है वह सो रही है" इस पर सभी लोग उसके हंसी उड़ाने लगे उसी जगह से सभी को बाहर भेजने के बाद यीशु उस लड़की के कमरे में गया और उसके हाथ को पकड़ कर उसे उठने के लिए कहा तभी वह लड़की उठ कर बैठ गई। यह घटना का समाचार उस क्षेत्र में फैल गया।

यीशु ने अंधों को आँखे दी 

यीशु जब वहां से जाने लगा तब दो अंधे व्यक्ति उस रास्ते में हम बैठे थे वह दोनों जोर जोर से चिल्लाने लगे "हे दाऊद के पुत्र हम पर दया कीजिए" यीशु जब उनके पास हो गया और उनसे पूछा कि क्या तुम्हें विश्वास है कि मैं तुम्हें फिर से आंखें दे सकता हूं तब उन्होंने उत्तर दिया "हां" प्रभु यीशु ने उनकी आंखों को छू कर कहा कि "तुम्हारे लिए वैसा ही हो जैसा तुम्हारा विश्वास है" और उन्हें दृष्टि मिल गई। यीशु ने उनसे कहा कि तुम इस बारे में किसी से चर्चा मत करना। लेकिन उन्होंने जब पर उस क्षेत्र में सभी को इस घटना के बारे में बता दिया। यीशु यहूदी आराधनालयों में उपदेश देता था। परमेश्वर के राज्य के बारे में लोगों को बताता था और लोगों के सभी रोग और समस्याओं को दूर करता था। उस क्षेत्र में  सभी गांव और नगर मे घूम कर परमेश्वर के राज्य के बारे में सभी को बताता था। जब जब भीड़ को देखता था तब उसका मन करोना से भरता था क्योंकि वह सभी उसी तरह थे जैसे भेड़ों का कोई चरवाहा नहीं होता।



प्रभु येशू ख्रिस्त का अनमोल वचन

कौन है प्रभु? आपका प्रभु कौन है?